वीमेन पावर लाइन 1090, देश में बटोर रही है सुर्खियां

वीमेन पावर लाइन 1090, देश में बटोर रही है सुर्खियां

102

1090प्रदेश मे महिला उत्पीड़न की घटनाओं को सख्ती से रोकने के उत्तर प्रदेश सरकार हमेशा से कुछ न कुछ योजनाएँ तैयार करती रहती है। लेकिन 1090 की स्थापना के बाद यूपी में महिलाओँ के प्रति अपराधों में काफी कमी आई है। आपको बता दें कि 1090 पर महीनें हजारो की तादाद में महिलाएँ फोन कर अपनी समस्या दर्ज कराती हैं। और समस्या का जल्द निवारण भी किया जाता है।

2012 में हुई थी स्थापना

  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वीमेन पॉवर लाइन 1090 की स्थापना कराई गयी है।
  • 15 नवम्बर 2012 से 1090 की कार्यप्रणाली की शुरूआत हुई।
  • तब से लेकर यह अब तक निरन्तर महिलाओँ के हित में कार्य कर रही है।
  • अब तक लाखों की संख्या में केस का हल निकला है।
  • महिला सशक्तीकरण की दिशा में वूमेन पावर लाइन ने अपनी एक अलग पहचान बनायी है।

2014 में और अधिक प्रभावशाली बनाया गया था

  • 1090 सेवा को अधिक प्रभावी बनाने के लिए निमित्त वर्ष 2014 में “Women Security App 1090” सेवा भी प्रारम्भ की गयी है
  • जिसके अत्यन्त सकारात्मक परिणाम सामने आये है और इस सेवा से महिलाओ व लडकियों में सुरक्षा की भावना बलवती हुई है।

वूमेन पावर हेल्पलाइन नंबर 1090 की ताकत

  • एक राज्य,एक नंबर 1090 कोई भी पीड़ित महिला या उसकी महिला रिश्तेदार अपनी शिकायत इस नंबर पर नि:शुल्क दर्ज करवा सकती है।
  • शिकायत करने वाली महिला की पहचान पूरी तरह गोपनीय रखी जाती है।
  • पीड़िता को किसी भी हालत में पुलिस थाने या किसी आफिस में नहीं बुलाया जाता है।
  • हेल्पलाइन में हर हाल में महिला पुलिस अधिकारी ही पीड़िता की शिकायत दर्ज करती है।
  • महिला पुलिस कर्मी अपने वरिष्ठ पुरूष पुलिस कर्मियों को पीड़ित की केवल उतनी ही जानकारी या सूचना उपलब्ध करवाती है
  • जो विवेचना में सहायक हो सके। कॉल सेंटर दर्ज शिकायत पर तब तक काम करता रहेगा जब तक उस पर पूरी कार्रवाई नहीं हो जाती।

यह भी पढ़े- 

1090 ने देश में कमाया नाम, इसके पीछे इनका था दिमाग

पढ़िए 1090 के फाउंडर ऑफिसर की कहानी

1090 महिलाओँ के लिए बना हथियार, जानिए क्या कहते हैं आकड़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

यूपी पुलिस हमेशा से प्रदेशवासियों के निशाने पर