जब SSP से लिपटकर खुशी से रोने लगी वो मां…

जब SSP से लिपटकर खुशी से रोने लगी वो मां…

112

एसएसपी राजेश पाण्डेययूपी के अलीगढ़ में फुटपाथ पर रहने वाली 34 साल की मीना देवी के 4 महीने और 8 साल की उम्र वाले दो बच्चों को कोई चोरी कर ले गया। वह लोगों से गुहार लगाती रही लेकिन किसी ने नहीं सुनी। हारकर उसने पास के एक पेड़ पर अपने बच्ची की तस्वीर टांग दी, लेकिन फिर भी कोई पता नहीं चला। फिर अचानक जिले के एसएसपी उस महिला के सामने भगवान बनकर आए और 2 दिन में महिला को उसकी 8 साल की बेटी काजल मिल गई। दूसरे बच्चे की तलाश जारी है।

IPS राजेश पाण्डेय की दरियादिली,गरीब महिला की मौके पर जाकर सुनी समस्याएं

मीना के पति कन्हैया बच्चों के लालन-पालन के लिए मजदूरी करते हैं जिसके कारण वह अलग-अलग शहरों में जाते हैं। कुछ समय पहले वह मजदूरी के लिए गए लेकिन उसके बाद ना ही वह खुद आए और ना ही उनकी कोई खबर। 4 महीने पहले फुटपाथ पर सोते समय मीना के एक बच्चे विकास को कोई चोरी कर ले गया। मीना ने बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं मिला। हाल ही में 14 दिन पहले फिर से कोई उनकी 8 साल की बच्ची को चुरा ले गया। बदहवास मां ने फिर से बहुत कोशिश की लेकिन कुछ पता नहीं चला। हताश मीना ने फुटपाथ पर लगे अशोक के पेड़ पर अपनी आठ साल की बेटी की तस्वीर टांग दी।

इस दौरान अलीगढ़ के एसएसपी राजेश पांडे के ड्राइवर की नजर उस पर पड़ी और उसने पूरी बात एसएसपी को बताई। एसएसपी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए थाना सिविल लाइन के प्रभारी निरीक्षक को बुलाकर मुकदमा दर्ज कराया और एक टीम बच्ची की बरामदगी में लगा दी।

रविवार देर शाम अचानक काजल अपनी मां के पास वापस आ गई। एसएसपी राजेश पांडे ने एक बार फिर से पोस्ट करके आशंका जताई कि सोशल मीडिया पर वायरल होती पोस्ट और पुलिस की सक्रियता को देखकर वे लोग काजल को वापस छोड़कर गए हैं , जो उसे ले गए थे। बेटी के वापस मिल जाने के बाद मीना देवी की खुशी को बयान करती यह पोस्ट पढ़िए:

फिलहाल पुलिस जांच में जुटी है कि काजल को किसने चुराया था। साथ ही मीना देवी के गुमशुदा बेटे की तलाश भी जारी है। हालांकि अभी तक काजल ने उनके बारे में कोई खास जानकारी नहीं दी है, जो उसे लेकर गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सम्मान की गुहार: कांस्टेबल लोकेश ने सोशल मीडिया पर शेयर की अपनी पीड़ा

देश का हर पुलिस जवान अपनी कडी मेहनत