यूपी पुलिस ने NRI के लिए लांच किया ट्विटर हैण्डल, इस तरह मिलेगा रिस्पॉन्स

यूपी पुलिस ने NRI के लिए लांच किया ट्विटर हैण्डल, इस तरह मिलेगा रिस्पॉन्स

0

सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा सक्रिय और सबसे तेज रिस्पॉन्स देने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस ने  NRI के लिए ट्विटर हैंडल @UPPolNRI शुरू कर दिया। इसकी शुरुआत यूपी पुलिस के महानिदेशक (डीजीपी) ओम प्रकाश सिंह ने पुलिस हेडक्वॉर्टर से की। इस दौरान डीजीपी के साथ पुलिस के अधिकारी और यूपी की महिला एनआरआई भी मौजूद रही।

डीजीपी ने बताया कि @Uppolice हैंडल के त्वरित रिस्पॉन्स के कारण विदेशों से भी अक्सर भारतीय मूल के लोगों द्वारा ट्विट्स प्राप्त किया जाता रहा है। जिसका संज्ञान लेकर उसके द्वारा उनकी समस्याओं का निस्तारण कराया जाता है। भारतीय मूल के विदेश में निवास करने वाले नागरिकों द्वारा किए जाने वाले ट्वीट की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है।

1,27,652 ट्वीट्स पर कार्रवाई कर निस्तारण कर चुकी पुलिस
डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा सितंबर 2016 से ट्विटर के एक विशेष सॉफ्टवेयर ट्विटर सेवा का संचालन किया जा रहा है। यह सॉफ्टवेयर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा ही प्रत्येक जिलों एवं इकाइयों के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। सितंबर 2016 से 30 अप्रैल 2018 तक यूपी पुलिस के हैंडल पर अब तक कुल 561460 ट्वीट प्राप्त हुए। इनमें से कुल 127652 ट्वीट्स कार्रवाई योग्य पाए जाने पर उनको संबंधित जनपद भेज कर निस्तारण किया कराया जा चुका है।

पहले ही UK के लिए कोऑर्डिनेटर हो चुकी नियुक्त
डीजीपी ने कहा कि अभी पिछले महीने लंदन में रहने वाली यूपी की महिला एनआरआई सुप्रिया ब्रॉडबंट को लंदन में यूपी पुलिस का को-ऑर्डिनेटर बनाया गया है। सुप्रिया ने अपने पति हेल्थ केयर विशेषज्ञ मैक्स ब्रॉडबेंट ने डीजीपी ओपी सिंह से इस संबंध में मुलाकात भी की थी। उन्होंने एनआरआई की मदद के लिए अलग ट्विटर हैंडल बनाने की मांग की। डीजीपी ने ऐसे देशों के लिए ट्विटर हैंडल बनाने का फैसला लिया था, जहां यूपी के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं।

अन्य देशों में बनाये जायेंगे अलग-अलग ट्विटर हैंडल
डीजीपी ने कहा कि जल्द यूएस, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा जैसे देशों में रहने वाले यूपी के लोगों के लिए अलग-अलग ट्विटर हैंडल बनाए जाएंगे। इस संबंध में डीजीपी के जनसंपर्क अधिकारी एएसपी राहुल श्रीवास्तव ने बताया कि यूपी पुलिस ट्विटर सेवा में आने वाली शिकायतों के विश्लेषण के लिए सॉफ्टवेयर को अपग्रेड करवाने जा रही है। इससे यह पता चल सकेगा कि किस इलाके से किस तरह की शिकायतें सबसे ज्यादा आ रही हैं। महिला अपराध, पुलिस के खराब व्यवहार, एफआईआर न दर्ज करने की शिकायतें कहां से सबसे ज्यादा हैं। इस संबंध में वह ट्विटर के अधिकारियों से जल्द मिलेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

नोएडा: SSP ने किया पुलिस का रियलिटी टेस्ट, ऑटो में बैठकर देखी पुलिस की मुस्तैदी

नई दिल्ली: नोएडा में अवैध वसूली लिस्ट वायरल