कुछ इस तरह एक पुलिसकर्मी का दर्द एक पत्रकार ने शेयर किया आप भी पढ़िए..

कुछ इस तरह एक पुलिसकर्मी का दर्द एक पत्रकार ने शेयर किया आप भी पढ़िए..

317
यूपी पुलिस
सतीश त्रिपाठी – टीवी पत्रकार 
पुलिस शब्द ही अपने आप में विश्वास से लबरेज है। लोगो को अक्सर देखा है कि पुलिस नाम से लोगो में भय और नकारात्मक छवि दिखती है। लेकिन बदलते जमाने के साथ और भी कुछ देखा। पड़ाव था लखनऊ से इलाहाबाद का। सामने की सीट पर बैठे सादे लिबास में एक सज्जन मेरी कुछ बातों पर हल्की मुस्कराहट दी। बस बातों का सिलसिला यहीं से शुरी हुआ।  बातों-बातों में पता चला कि वह पुलिस विभाग में इंस्पेटर के पद पर तैनात हैं। तो बस क्या…एक पत्रकार और एक पुलिसकर्मी की बातों का सिलसिला शुरू हो गया। हर शब्द में उनका दर्द छलक रहा था। तो अचानक मैं पूछ बैठा कि आप अधिकतर परेशान क्यों नजर आते हैं। आपकी मुस्कराहट के पीछ दर्द बहुत छिपा है। 
इंस्पेक्टर महोदय ने अपना दर्द हमारे साथ शेयर करना शुरू कर दिया..बताने लगे कि आज लगभग 7-8 महीने के बाद परिवार से मिला। एक लम्बे वक्त के बाद अपनों से मिला और उनके साथ समय गुजारना कितना कितना अच्छा लगता है। पुलिस विभाग में आज के समय में अवकाश के नाम पर कुछ नहीं। कभी-कभी सालों का वक्त गुजर जाता है..अपनो के साथ वक्त बिताए।
आज काफी दिनों के बाद परिवार से मिलते हीं ऑंख में आंसू आ गए। कि काश हर-पल हर-वक्त हर-लम्हा अपनों के साथ गुजारे जाए। वैसे तो सच्चाई यह है कि पुलिस कर्मी जो हमेशा एक वर्दी में हमारे लिए 24 घण्टे सेवा के तैयार रहते हैं। कहीं मोहल्लें में चोरी हो गई या किसी ने किसी को थप्पड़ जड़ दिया तो पुलिस विभाग पर उंगली उठने लगती है। ये कैसी सच्चाई हम हर चीज के लिए पुलिस पर आरोप नहीं लगा सकते हैं।
सज्जन ने अपनी भरी हुई आंखों को लेकर आगे कहा कि ड्यूटी के वक्त गुण्डे माफिया और साथ में नेताओं का प्रेशर बहुत झेलना पड़ता है। ऐसे में आम इंसान के साथ कभी-कभी न्याय भी नहीं हो पाता तो उस वक्त काफी दर्द होता है।
आम व्यक्ति की सुरक्षा से लेकर वीआईपी और वीवीआईपी की सुरक्षा तक का इंतजाम पुलिस विभाग के पास रहता है। अगर कहीं चूंक हो जाए तो पुलिस विभाग पर उंगली उठने लगती है। सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए.. कि हर कदम हर पल पुलिस विभाग के लिए चुनौती है तो ऐसे में कम से कम उन्हे अपना हक तो जरूर मिलना चाहिए…. जारी है……

You may also like

जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

यूपी पुलिस हमेशा से प्रदेशवासियों के निशाने पर