बिलकुल फिल्मी जैसी है नवनीत सिकेरा IPS बनने की कहानी

बिलकुल फिल्मी जैसी है नवनीत सिकेरा IPS बनने की कहानी

861

नवनीत सिकेरा 1996 बैच के आईपीएस हैं। उनके पिता एक किसान थे। एक बार की बात थी उनके पिता किसी मामले की शिकायत करने थाने गए थे जहां ड्युटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने उनके पिता के साथ बदसलूकी की थी। बस यहीं से शुरू हुआ था नवनीत के आईपीएस बनने का सपना। फिल्म ‘सरफरोश’ में अभिनेता आमिर खान का एक डॉयलाग था ”मैने आईपीएस बनने के लिए जी तोड़ मेहनत की है, मेरा सेलेक्शन आईएएस के लिए हुआ था, मै चाहता तो किसी जिले का कलेक्टर बन जाता लेकिन मुझे आईपीएस बनना था’ कुछ ऐसा ही था को नवनीत सिकेरा ने चरित्रार्थ किया।

थाने में पिता के साथ पुलिस द्वारा अभद्र व्यवहार किए जाने के बाद उन्होंने ठान लिया कि उन्हें आईपीएस ही बनना है और शुरू की पढ़ाई। नवनीत ने जुनून में सिविल सेवा परीक्षा पास की। उनका चयन आईएएस के लिए हुआ लेकिन यहां पर उन्होंने वही किया जो ‘सरफरोश’ फिल्म में आमिर खान ने किया यानि आईपीएस बने। सिकेरा अपराधियों के लिए काल हैं और आम लोगों के लिए बहुत ही अच्छे।

यूपी में एक समय ऐसा भी था जब लोग स्थानीय थाने में न जाकर अपनी शिकायत उनके पास लाते हैं। आपको बता दें कि नवनीत सिकेरा ही वो अधिकारी हैं जिनके नेतृत्व में गैंगस्टर रमेश कालिया के आतंक को खत्‍म किया था। नवनीत सिकेरा की अगुवाई में पुलिस ने बारातियों का वेश बदलकर रमेश कालिया को मौत के घाट उतारा था। उनके नाम 60 एनकाउंटर दर्ज हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

यूपी पुलिस हमेशा से प्रदेशवासियों के निशाने पर