जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

192

यूपी पुलिस हमेशा से प्रदेशवासियों के निशाने पर होती है लेकिन प्रदेश की पुलिस का एक चेहरा यह भी है कि उसके पास कुछ ऐसे पुलिसकर्मी भी हैं जिनके नाम से प्रदेश के अपराधी कांपते हैं, ना सिर्फ अपराधियों में इनके नाम का खौफ है बल्कि ये पुलिसकर्मी कई मौकों पर अपराधियों के लिए यमराज साबित होते हैं।

आज हम आपको एक ऐसे आईपीएस के  बारे में बताने जा रहे हैं कि जिसके ऊपर न राजनेताओँ के दबाव का असर हो पाया और न ही किसी सत्ता की हनक चल पाई। उस जाबांज ऑफिसर का नाम है आईपीएस अमिताभ यश।

आईपीएस अमिताभ यश बिहार जिले वाले हैं।अमिताभ यश को अपराधियों से सख्त नफरत रही है। जिसका कारण रहा है कि आईपीएस अमिताभ यश एसटीएफ में रहकर करीब तीन दर्जन बेखौफ अपराधियों को मार गिराया है। और यही नहीं बल्कि कई दर्जन एनकाउंटर करने वाली टीम को भी अमिताभ ठाकुर गाइड कर चुके हैं। अमिताभ यश का अपराधियों के प्रति एक ही व्यवहार रहा है कि लातों के भूत बातों से नहीं मानते।

सत्ता में समाजवादी पार्टी के आने के बाद से अमिताभ यश को कानपुर जिले की कमान मिली। और कानपुर में उन्‍हीं की कप्‍तानी के दौरान उत्तर प्रदेश में सबसे पहला एनकाउंटर हुआ।

वैसे तो अमिताभ यश दिल के काफी अच्छे व्यक्ति माने हैं। लेकिन अपराधियों के लिए वह उतने उलटे हैं। अमिताभ यश के बारे में एक बात कही जाती है कि वह जिस जिले में जाते हैं वहां से अपराधी दुम दबाकर भाग निकलते हैं। हालांकि अमिताभ यश के जीवन में ऐसे कई वाकये हुए कि जब अपराधियों पर उन्होने सख्‍ती की तो उनका तबादला भी हुआ, लेकिन उन्‍होंने कभी भी अपनी शैली में बदलाव नहीं किया। यही कारण रहा कि एसटीएफ के अलावा जब-जब अमिताभ यश को जिलों में तैनाती मिली तो काम पूरा होने के बाद उन्‍हें एसटीएफ में ही भेज दिया गया।

इसे भी पढ़े- 

आज की युवा पीढ़ी के लिए रोल मॉडल बनते पुलिसकर्मी सचिन कौशिक

IPS राजेश पाण्डेय की दरियादिली-कहा मैं कुर्सी पर बैठूं और फरियादी जमीन पर ऐसा नहीं होगा…

 

 

You may also like

इस इंस्पेक्टर ने फिल्मी अंदाज में शातिर अपराधी को किया गिरफ्तार, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

इलाहाबाद- कई-कई बार अपराधी पुलिस की आंख में