देश की पहली स्वॉट में है इस IPS अफसर का योगदान, कर चुके प्रधानमंत्री की भी सुरक्षा

देश की पहली स्वॉट में है इस IPS अफसर का योगदान, कर चुके प्रधानमंत्री की भी सुरक्षा

139

देश की पहली स्वॉट

The Police News

लखनऊ। हर पुलिस अफसर यूं तो अपना काम बखूबी करते है लेकिन कुछ अफसर ऐसे भी होते है जिनके नाम मात्र से अपराधी थर-थर कांपते हैं। अक्सर ऐसा फिल्मों में देखा जाता है कि अफसर अपना काम पूरी शिद्दत के साथ निभाते है और जनता के लिए कुछ ऐसा काम करते है जिससे उनका नाम लोगों के दिलों में बस जाता है। ऐसे ही एक यूपी के तेज तर्रार आईपीएस अफसर असीम अरुण है जिनको लोग लखनऊ शूटआउट की कमान संभालने वाले शानदार काम के लिए जानते हैं। इनकी लीड में इनकी टीम ने आतंकी सैफुल्‍लाह को ढेर किया जिससे लोगों के बीच पुलिस का मान कायम रहे। इतना ही नहीं जनपद स्तर पर देश की पहली स्वॉट टीम बनाकर असीम अरुण ने काबिल-ए-तारीफ काम किया है।

देश की पहली स्वॉट टीम बनाकर की जनता की भलाई

देश की पहली स्वॉट

  • यूपी के कई जिलों में पुलिस कप्तान की कमान संभाल चुके असीम अरुण का जन्म 3 अक्‍टूबर 1970 को यूपी के ही बदायूं जनपद में हुआ था।
  • उनके पिता श्रीराम अरुण भी एक आईपीएस अफसर थे जिससे उन्हें पुलिस में करियर बनाने की प्रेरणा मिली।
  • उनकी माता शशि‍ अरुण जानी-मानी लेखि‍का और समाजसेवि‍का हैं।
  • असीम अरुण 1994 बैच के आईपीएस अफसर हैं। ट्रेनिंग के दौरान उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया जिसकी वजह से वह अपने बैच के सबसे होनहार अफसर के तौर पर जाने जाते हैं।
  • भारतीय पुलि‍स सेवा में आने के बाद असीम अरुण यूपी के कई जिलों में तैनात रहे।
  • वे कुछ समय के लिए स्टडी लीव पर विदेश चले गए थे लेकिन लौटकर आने के बाद उन्होंने एटीएस लखनऊ में कार्यभार संभाला।

पूर्व प्रधानमंत्री की सुरक्षा दल का भी रह चुके हिस्सा

देश की पहली स्वॉट

  • असीम अरुण की काबलियत का ही नतीजा था कि उन्हें देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के सुरक्षा दल में शामिल किया गया।
  • वे एसपीजी में प्रधानमंत्री के अंदरूनी घेरे की सुरक्षा यानी क्‍लोज़ प्रोटेक्‍शन टीम (CPT) का नेतृत्व कर चुके हैं।
  • उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए ही उन्हें एनएसजी मानेसर सहि‍त सीबीआई की साइबर अपराध वि‍वेचना अकादमी गाजि‍याबाद में भी सेवाएं देने का मौका मिला।
  • पुलिस की डायल 100 सेवा शुरू किए जाने में भी उनका अहम योगदान रहा है।
  • वर्ष 2009 में उन्होंने अलीगढ़ जनपद में तैनाती के वक्त भारत की पहली जनपद स्तरीय स्पेशल वेपन्स एंड टेक्टिक्स टीम यानी स्वॉट का गठन किया।
  • स्वॉट टीम आतंकी और जोखि‍मपूर्ण मिशन को अंजाम देने वाली खास हथियारों से लैस विशेष कमांडो टीम है।
  • वर्ष 2002 में असीम अरुण को संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ ने कोसोवो में एक साल के तैनात किया। जहां उन्होंने सराहनीय सेवाएं दी।
  • उन्हें सादगीभरा जीवन पंसद हैं और वे पुलिसिंग को अपना पहला इश्क कहते हैं।

Also read :-लश्कर के आतंकी का बड़ा ‘मिशन’ हुआ फेल, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Also read :-साइबर क्राइम से बचने के लिए SSP ने बताया सिम स्वैपिंग का पूरा सच

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रुवेदा सलाम के जोश और जज़्बे की कहानी, कश्मीर की है पहली IPS

The Police News देश की बागडोर असल मायने