‘लेडी सुपरकॉप’ है पुलिस विभाग की ये IPS, माफियाराज के खात्में में अहम योगदान

‘लेडी सुपरकॉप’ है पुलिस विभाग की ये IPS, माफियाराज के खात्में में अहम योगदान

162

'लेडी सुपरकॉप'

The Police News

नई दिल्ली। कहा जाता है की कुछ खाकीवाले पैसे और खौफ के साये में वरदी से बेईमानी कर लेते है जिसकी वजह से लोगो का पुलिस पर विश्वास कम हो जाता है। अंडरवर्ल्ड के नाम से आम जनता के साथ पुलिस भी कही न कही खौफ में होती है क्योकि हर किसी को मौत का डर होता है। इसलिए शायद न तो इनके खिलाफ कोई गवाह मिलता है जिसकी वजह सही से तहकीकात भी नही हो पाती है। लेकिन आज भी कुछ ऐसे  IAS, IPS अफसर हैं, जो बिना किसी खौफ के अंडरवर्ल्ड का खात्मा करने में पीछे नही हटते है। ऐसे पुलिस वालो की वजह से ही ईमानदारी के दम पर नौकरशाही की साख बची हुई हैं। ऐसी ही एक पुलिस अफसर है मीरा बोरवंकर जिन्होंने कई अंडरवर्ल्ड डॉन को पुलिस के सामने घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया। इन्हें पुलिस विभाग में ‘लेडी सुपरकॉप’ के नाम से जाना जाता है।

‘लेडी सुपरकॉप’ है मीरा बोरवंकर

  • ‘लेडी सुपरकॉप’ मीरा बोरवंकर महाराष्ट्र कैडर की पहली महिला IPS अफसर हैं।
  • मीरा 1981 बैच की IPS अधिकारी हैं।
  • मीरा मूल रूप से पंजाब के फाजिल्का जिले की रहने वाली हैं।
  • उनके पति अभय बोरवंकर रिटायर्ड IAS अधिकारी हैं। रिटायर होने के बाद फिलहाल वह अपना बिजनेस संभाल रहे हैं।
  • IPS अफसर बनने के बाद मीरा की पोस्टिंग महाराष्ट्र के कई बड़े शहरों में हुई, जिसमें मुंबई सबसे महत्वपूर्ण रहा।
  • माफियाराज को खत्म करने में मीरा बोरवकंर का अहम योगदान रहा है।
  • मीरा ने नौकरी के शुरूआती दौर में ही अपने तेवरों से साफ कर दिया था कि वह हर हाल में गुंडाराज का खात्मा करके रहेंगी।
  • मीरा मोस्ट वांटेड अंडरवर्ल्ड डॉन और डी कंपनी के सरगना दाऊद इब्राहिम से लेकर छोटा राजन गैंग के कई सदस्यों को सलाखों के पीछे धकेल चुकी हैं।

फिल्म ‘मर्दानी’ मीरा बोरकंर के जीवन से ही प्रेरित

'लेडी सुपरकॉप'

  • मीरा जलगांव सेक्स रैकेट के खुलासे के बाद खासा सुर्खियों में आईं थीं।
  • दरअसल साल 1994 में उनकी अगुवाई में पुलिस ने एक बड़े सेक्स रैकेट का खुलासा किया था।
  • इस रैकेट में स्कूल की बच्चियों से लेकर कॉलेज की लड़कियों तक को देह व्यापार के गोरखधंधे में धकेलने की बात सामने आई थी।
  • इस रैकेट के खुलासे के बाद मीरा देशभर की मीडिया में सुर्खियों में छा गईं थीं। साल 2014 में आई रानी मुखर्जी स्टारर फिल्म ‘मर्दानी’ मीरा बोरकंर के जीवन से ही प्रेरित थी।
  • याकूब मेमन की फांसी के समय मीरा बोरवंकर महाराष्ट्र की एडीजीपी (जेल) थीं।
  • वह उन पांच अधिकारियों में शामिल थीं, जो मेमन की फांसी के समय जेल परिसर में मौजूद थे।
  • मीरा अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम से लेकर कई वांटेड अपराधियों के भारत प्रत्यर्पण में अहम रोल निभा चुकी हैं।
  • मीरा बोरवंकर के पिता ओपी चड्ढा बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) में थे।
  • देश की पहली महिला IPS अधिकारी किरण बेदी से प्रेरणा लेकर ही मीरा भारतीय प्रशासनिक सेवा से जुड़ी थीं।

Also Read:- देश की पहली स्वॉट में है इस IPS अफसर का योगदान, कर चुके प्रधानमंत्री की भी सुरक्षा

Also Read:- लश्कर के आतंकी का बड़ा ‘मिशन’ हुआ फेल, पुलिस ने किया गिरफ्तार


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रुवेदा सलाम के जोश और जज़्बे की कहानी, कश्मीर की है पहली IPS

The Police News देश की बागडोर असल मायने