DSP श्रेष्ठा ठाकुर की कहानी, जब बच्चों ने कहा कि आप लेडी सिंघम हो न?

DSP श्रेष्ठा ठाकुर की कहानी, जब बच्चों ने कहा कि आप लेडी सिंघम हो न?

0

आज महिलाएं हर क्षेत्र में बढ़चढ़कर हिस्सा ले रहीं है ऐसे में अगर हम पुलिस विभाग की चर्चा न करें तो शायद ठीक नहीं होगा। The Police News आपको अपने एक खास सीरीज में ऐसी महिलाओं के बारे में बताएगा जिनके कार्यों की चर्चा आप शायद कम सुन पाते हैं लेकिन वह अपने अलग काम के अंदाज के जरिए आम लोगो में काफी पसंद की जाती हैं।

कुछ ऐसे ही आज एक अधिकारी की कहानी आपको The Police News बता रहा है। वह पुलिस विभाग में लेडी सिंघम के नाम से भी जानी जाती हैं।

श्रेष्ठा ठाकुर की पढ़ाई शुरू से लेकर ग्रैजुशन तक कानपुर में हुई। श्रेष्ठा जब कानपुर में शिक्षा ग्रहण कर रही थी, तब उनके साथ दो बार मनचलों ने छेड़छाड़ की। उस समय उन्हें लगा कि इस प्रकरण में पुलिस को जिस तरह से अपनी कार्रवाई करनी चाहिए थी, नहीं की गई। तभी इन्होंने पुलिस अफसर बनने की ठान ली। 2012 में इन्होंने पीपीएस क्वालीफाई किया।

DSP श्रेष्ठा ठाकुर के पिता एसबी सिंह भदौरिया और मां मिथलेश भदौरिया की सबसे छोटी संतान हैं। श्रेष्ठा के सपनों को उड़ान देने में उनके बड़े भाई मनीष प्रताप का बड़ा योगदान है। पीपीएस जैसी कठिन परीक्षा की तैयारी में जब उनका मन ऊबने लगता था, तो भाई मनोबल बढ़ाते थे। श्रेष्ठा के पापा बिजनेसमैन हैं।

जब रोड पर दिखा था दबंग अंदाज
पिछले साल DSP श्रेष्ठा ठाकुर तब चर्चा में आई थीं। जब उन्होंने बतौर बुलंदशहर डीएसपी बीजेपी नेता मुकेश भारद्वाज का नियम तोड़ने पर चालान काटा था। इस बात को लेकर उनकी नेता से बहसबाजी भी हुआ थी। नेता से तूतू-मैंमैं करते हुए उनका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था और लोगों ने उन्हें लेडी सिंघम का टैग दिया था। हालांकि, बाद में उनका बुलंदशहर से बहराइच ट्रांसफर हो गया था।

जब बच्चों ने कहा कि आप लेडी सिंघम हो न?
DSP श्रेष्ठा ठाकुर बहराइच में पोस्टिंग के दौरान 5वीं क्लास के बच्चों की क्लास लेने पहुंचीं। उन्होंने वहां एक बच्ची से देश के पीएम का नाम पूछा। इस पर छात्रा सीओ को गौर से देखने लगी। जिस पर उन्होंने सवाल को फिर से दोहराया। दूसरी बार सवाल पूछने पर छात्रा ने कहा- आप को मैंने टीवी पर देखा है। अखबार में भी आपकी फोटो देखी है। आप लेडी सिंघम हो न? इतना सुनते ही श्रेष्ठा हंस पड़ीं। उन्होंने बच्ची के गाल पर हाथ फेरते हुए सवाल का जवाब जानने का प्रयास किया। तब छात्रा ने प्रधानमंत्री का नाम बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

IPS विनोद मिश्र की कहानी, जिसके कारण गरीबों का भर रहा है पेट

कहते हैं हर एक इंसान में दो-चार इंसान