सम्मान की गुहार: कांस्टेबल लोकेश ने सोशल मीडिया पर शेयर की अपनी पीड़ा

सम्मान की गुहार: कांस्टेबल लोकेश ने सोशल मीडिया पर शेयर की अपनी पीड़ा

228

कांस्टेबल लोकेश भाटीदेश का हर पुलिस जवान अपनी कडी मेहनत औऱ जज्बे से देश की रक्षा करने में अपना जी जान लगा देते हैं। लेकिन कभी-कभी वो निराश भी हो जाते हैं। क्योकि सीनियर अधिकारी प्रसन्नता को करते हैं लेकिन सम्मान के नाम पर फाइल दम तोड़ती रह जाती है। कुछ ऐसा ही यूपी पुलिस का एक जाबांज पुलिसकर्मी ने सोशल मीडिया पर अपना पीड़ा शेयर किया है। उश जाबांज पुलिसकर्मी का नाम है कांस्टेबल लोकेश भाटी।

कांस्टेबल लोकेश ने कुछ यूं शेयर किया दर्द

मेरे साथ 2014 दिसंबर में हुई घटना का घटनाक्रम मैं आपके साथ साझा कर रहा हूं क्योंकि वह एक बहुत ही दुखद घटना थी जिसमें मेरा साथी मेरा भाई एकांत यादव शहीद हो गया था और मैंने अपने भाई के बदले में बदमाश को राइफल थ्री नोट 3 की बातों से ही मार दिया था उस समय के हमारे अधिकारियों ने मेरे उत्साह वर्जन में बहुत कुछ कहा था लेकिन उसका कोई परिणाम नहीं आया उन्होंने कहा था कि तुमने इस समय में पुलिस का नाम रोशन किया है जिस समय पुलिस का मनोबल गिरा हुआ था तुमने अवश्य ही सौर अपने शौर्य पराक्रम से पुलिस का नाम रोशन किया है हम Tumhare इस पराक्रम के लिए अपने शासन के लिए तुम्हारी फाइल बनवा कर के भेज देंगे ताकि तुम को सम्मानित किया जा सके और अन्य पुलिस लोगों को जो है तुमने अच्छा प्रदर्शन दिखाया है और लोग भी इसे उत्साहित होंगे

सम्मान का कर रहे हैं इंतजार

लोकेश कहते हैं कि उस वाक्य को 3 साल गुजर गए जिसमें अभी तक कोई मुझे यह मेरे भाई एकांत शहीदे कांत यादव को कोई भी प्रोत्साहन को ईमेल डाल दिया पुलिस के सराहनीय काम के लिए सम्मानित नहीं किया मेरे भाई बंधुओं ने आप लोगों ने मुझसे कहा की फाइल बनवा लो तो मैंने फाइल बनवा ली उसको मैंने ऑफिस में भी दे दिया लेकिन बाबू लोग और हमारे जिला इस तरफ से उस फाइल को अभी तक कोई कार्यवाही में शामिल नहीं किया गया है।

सोशल मीडिया के जरिए लगाई गुहार

लोकेश ने फेसबुक पर शेयर करते हुए कहा कि आप सभी लोगों के द्वारा मैं अपने फाइल की कुछ फोटोस आपके साथ शेयर कर रहा हूं और अपनी बात को अपने लखनऊ में बैठे वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंचाना चाहता हूं उन्होंने कई बार आदेश भी लिखित में पहुंचाए हैं के सराहनीय कामों को प्रोत्साहन दें ताकि पुलिस उस चीज को अच्छे से कर कर के अपने दिल से काम करें उसका एक आदेश अभी 5 तारीख में भी हमारे जिले में प्राप्त हुआ था जिसका फोटो मैंने आपको भेज दिया है तो मैं अपनी बात लखनऊ में अपने शासन और प्रशासन दोनों तरह के अधिकारियों तक पहुंचाना चाहता हूं कृपया आप मेरी मदद करें अगर मैंने अपनी नौकरी और अपने भाई सही देखा यादव के लिए जो किया वह गलत था तो मैं बिल्कुल उसकी सजा के लिए तैयार हूं और अगर मैंने सही किया है और आप लोग मेरे साथ हो तो कृपया मेरी इस बात स्कोर प्राधिकारियों तक पहुंचाएं जय हिंद जय भारत

कांस्टेबल लोकेश भाटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

UP: बदली ट्रैफिक पुलिस की वर्दी, खाकी की बजाए पहनेंगे नीली पैंट

प्रदेश में यातायात व्यवस्था को नियंत्रित करने के