Exclusive- पशु तस्करों को पकड़ने के बदले सीओ को मिला “इनाम”, हुआ तबादला

Exclusive- पशु तस्करों को पकड़ने के बदले सीओ को मिला “इनाम”, हुआ तबादला

152

त्रिपुरारी पाण्डेयहमारी और आपकी सुरक्षा के लिए हर समय तैयार रहने वाली पुलिस को अक्सर लोग भला बुरा कहते हैं लेकिन उनकी कार्यशैली के बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं। आज The Police News आपको एक ऐसे पुलिस अधिकारी के बारे में बताने जा रहा है जिसने अपनी जान पर खेलकर दर्जनों पशु तस्करों को पकड़कर जेल भेजा। और सैकड़ो बेजुबानों को उनके चंगुल से आजाद कराया उस पुलिस ऑफिसर का नाम है त्रिपुरारी पाण्डेय। त्रिपुरारी पाण्डेय 2015 में इस्पेक्टर से बतौर सीओ बने।

एक तरफ जहा योगी सरकांर गोरक्षा को लेकर तमाम कवायद कर रही है वही पशु तस्करी रोकने वाले जाबाज पुकिसकर्मियो का तबादला कर दिया जा रहा है। ताज़ा मामला पूर्वी उत्तर प्रदेश के चन्दौली का है जहाँ एक डिप्टी एसपी ने जब पशु तस्करों के सफाया करना शुरू किया तो इस गोरखधंधे में शामिल लोगों की आँख की किरकिरी बन गया लिहाजा इस आफिसर का तबादला दूसरे सर्किल में कर दिया गया।सूत्रों की माने तो इस गोरखधंधे में शामिल लोगों ने सत्ता के गलियारे में मौजूद अपने रसूख का इस्तेमाल किया और राह में काटा बने डिप्टी एसपी का तबादला करा दिया

त्रिपुरारी पाण्डेय बेहद ही तेज तर्रार अधिकारी हैं

-त्रिपुरारी पाण्डेय उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के रहने वाले हैं।
-त्रिपुरारी पाण्डेय बेहद ही तेज तर्रार अधिकारी माने जाते हैं।
-इसी वजह से वह सीनियर अधिकारियों के काफी प्रिय रहते हैं।
-त्रिपुरारी पाण्डेय ने एक नहीं सैकड़ों बड़े खुलासे कर चुके हैं।

राष्ट्र सेवा के लिए इस IPS ने छोड़ी मल्टीनेशनल कंपनी की जॉब

त्रिपुरारी पाण्डेय

चंदौली जिले में है तैनात

-त्रिपुरारी पाण्डेय इस वक्त चंदौली जिले में तैनात हैं।
-चंदौली जिले में पशु तस्करों का काफी बोलबाला है।
-त्रिपुरारी पाण्डेय ने 2 महीने में उनका सफाया कर दिया।
-पशु तस्करों ने कई बार गाड़ी भी चढ़ाने की कोशिश भी की।
-लेकिन पशु तस्कर अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके।

दर्जनों पशु तस्करों को भेजा जेल

-त्रिपुरारी पा ण्डेय ने दर्जनों पशु तस्करों को जेल भेजा।
-और उनके पास से सैकड़ों बेजुबानों को आजाद कराया।
-लेकिन स्थानीय नेताओं के दखलंदाजी से उनको हठा दिया गया।
-ऐसा माना जाता है कि वहां पर स्थानीय नेताओं की वजह से
-पशु तस्करों का प्रदेश में काफी बोलबाला भी था।
-जिसमें त्रिपुरारी पाण्डेय ने हस्तक्षेप किया जिसका नतीजा
-उनको एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भेज दिया गया।

एसआई कुलदीप सिंह ने राष्ट्रपति को भेंट की स्वरचित कविता, मिला सम्मान

त्रिपुरारी पाण्डेयस्थानीय नेताओं के हस्तक्षेप पर हुआ तबादला

-त्रिपुरारी पाण्डेय चंदौली में बतौर सीओ सिटी तैनात थे।
-लेकिन पशु तस्करों पर त्रिपुरारी ने लगाम कस रखी थी।
-जिसके चलते स्थानीय नेताओं ने दखलंदाजी की।
-जिसके बाद त्रिपु रारी पाण्डेय को चकिया सीओ बनाया गया।

ARTO के खिलाफ भी कर चुके हैं कार्रवाई

अरबपति ARTO के खिलाफ की थी कार्यवाई। परिवहन विभाग में करोड़ो के खेल का किया था पर्दाफाश। त्रिपुरारी पाण्डेय आरएस यादव के खिलाफ कार्यवाही करने चर्चा में आए थे भ्रष्टाचारी एआरटीओ आर एस यादव के खिलाफ कार्यवाही की थी। फिलहाल अभी भी ARTO आरएस यादव जेल में बंद है।

 

                                                                                                                                                          

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सम्मान की गुहार: कांस्टेबल लोकेश ने सोशल मीडिया पर शेयर की अपनी पीड़ा

देश का हर पुलिस जवान अपनी कडी मेहनत