मुख्यमंत्री करेंगे अब खुद आपकी मुसीबत दूर, सब विभाग पर होंगी सीएम की नज़र

मुख्यमंत्री करेंगे अब खुद आपकी मुसीबत दूर, सब विभाग पर होंगी सीएम की नज़र

156

मुख्यमंत्री

The Police News

कानपुर। इन दिनों परेशानियां दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। आए दिन बढ़ते इन अपराधों से लोगों की मदद अब खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  करेंगे। मात्र एक कॉल पर सभी इमरजेंसी सेवाएं तत्काल आपके पास पहुंचेंगी। जी हां, सरकार जल्द ही सीएम हेल्पलाइन नंबर जारी करने जा रही है।

इमरजेंसी नंबर्स कई बार बिजी होने के चलते पीड़ित को समय पर हेल्प मुहैया नहीं कराई जा पाती। कई बार नंबर अटेंड करने में भी लापरवाही बरती जाती है। संबधित कर्मचारी भी टालमटोल करते हैं। सीएम हेल्पलाइन चालू होने के बाद ऐसा नहीं हो सकेगा। पीडि़त को फौरन मदद दी जाएगी।

इस हेल्पलाइन की खासियत

  • इस नंबर की खासियत यह होगी कि मुसीबत में फंसे 500 लोग एक साथ मदद मांग सकेंगे।
  • फायर, एंबुलेंस, पुलिस के इमरजेंसी नंबर्स को भी सीएम हेल्पलाइन से अटैच कर दिया जाएगा। यानी हर इमरजेंसी कॉल पर सीधे सीएम की नजर रहेगी।
  • संबंधित विभाग के अधिकारी टाल- मटोल नहीं कर सकेंगे। उन्हें हर हाल में पीडि़त को तत्काल मदद करनी होगी। नवंबर में हेल्पलाइन लांच करने की तैयारी हो रही है।

    इस IPS महिला से अंडरवर्ल्ड भी खाता था खौफ, ऐसा था दबदबा

बिजी होने पर हो जाएगी ट्रांसफर

  • सीएम हेल्प लाइन के माध्यम से अब तक चल रहे सभी इमरजेंसी नंबर जैसे 100, 102, 108 व 1090 को अटैच कर दिया जाएगा।
  • इसके तहत किसी भी नंबर पर कॉल करने पर सीधे सीएम हेल्प लाइन टेलीकॉलर से बात होगी, जो जरूरत के हिसाब से उस कॉल को संबंधित हेल्पलाइन पर ट्रांसफर कर देगा।
  • इस बीच अगर वो हेल्पलाइन बिजी हुई तो कॉल को उस डिस्ट्रिक्ट के डीएम, एसएसपी या किसी अन्य जिम्मेदार अफसर को ट्रांसफर कर दी जाएगी।

मोबाइल ऐप भी होगा कारगर

  • सीएम हेल्पलाइन को लांच करने की तैयारियां जोरों से की जा रही हैं। इसके लिए टोल फ्री नंबर, वेब पोर्टल, लेटर के साथ ही मोबाइल ऐप भी लांच किया जा रहा है।
  • यदि इमरजेंसी न हो तो भी कम्प्लेन सीएम हेल्पलाइन पर इन सभी माध्यमों से दर्ज कराई जा सकेगी। इसके लिए गवर्नमेंट एजेंसी को हायर कर रही है।
  • सीएम हेल्प लाइन सेंटर में शुरुआती तौर पर 500 टेलीकॉलर्स की व्यवस्था की जाएगी, जिन पर एक साथ कॉल अटेंड कर हेल्प मुहैया कराई जा सकेगी।
  • आगे चल कर इन सीट्स की संख्या 1000 तक बढ़ाए जाने पर भी विचार किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रुवेदा सलाम के जोश और जज़्बे की कहानी, कश्मीर की है पहली IPS

The Police News देश की बागडोर असल मायने