चित्रकूट इनकाउंटर में शहीद दरोगा के परिवार को आर्थिक मदद देगी यूपी सरकार

चित्रकूट इनकाउंटर में शहीद दरोगा के परिवार को आर्थिक मदद देगी यूपी सरकार

152

चित्रकूट इनकाउंटर

The Police News

चित्रकूट। पुलिस की नौकरी सबसे जोखिम वाली मानी जाती है। ऐसा इसलिए माना जाता है क्योंकि न इसमें आपकी जान की सुरक्षा है न आपके परिवार की। हमारी सुरक्षा के लिए पुलिस वाले अपने परिवार को छोड़कर अपनी जान की बाज़ी लगा देते है। लेकिन उन्हें बदले में कुछ हासिल नहीं होता। उनके परिवार वालों को भी उनके शहीद होने पर कोई पूछता तक नहीं है। लेकिन इस बात को गलत साबित करते हुए यूपी सरकार ने हाल ही में हुए चित्रकूट इनकाउंटर में डकैतों के साथ मुठभेड़ में शहीद सब इंस्पेक्टर जयप्रकाश सिंह के परिवार को आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है। शहीद के परिवार को सरकार की तरफ से 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी, वहीं शहीद के मां-बाप को 5 लाख की रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

जानें मुठभेड़ का पूरा सच

  • खुद मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ ने ​चित्रकूट में डकैत बबुली कोल के साथ पुलिस इनकाउंटर में शहीद हुए दरोगा जय प्रकाश सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की।

  • चित्रकूट जिले के मानिकपुर के जंगल में 7 लाख के इनामी डकैत बबुली कोल और उसके गिरोह के साथ हुई मुठभेड़ में रैपुरा थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर जयप्रकाश सिंह शहीद हो गए।
  • बता दें कि सुबह करीब 5: 30 बजे शुरू हुई मुठभेड़ छह घंटे से ज्यादा समय तक चली।
  • पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि खुंखार बबुली कोल गिरोह जंगल किनारे के गांव निही चिरैया के करीब वन विभाग की चौकी के आसपास मौजूद है।

    बिलकुल फिल्मी जैसी है नवनीत सिकेरा IPS बनने की कहानी

  •  मऊ और मानिक सर्किल की दो पुलिस टीमें बनाकर जंगल की तरफ रवाना कर दी।
  • पुलिस को देखते ही डकैत गिरोह ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं।
  •  जब तक पुलिस संभलती दरोगा जयप्रकाश सिंह के पेट और पैर में दो गोलियां लगीं। पुलिस जब तक उनको जंगल के बाहर लाती उनकी मौत हो चुकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रुवेदा सलाम के जोश और जज़्बे की कहानी, कश्मीर की है पहली IPS

The Police News देश की बागडोर असल मायने