इस इंस्पेक्टर ने फिल्मी अंदाज में शातिर अपराधी को किया गिरफ्तार, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

इस इंस्पेक्टर ने फिल्मी अंदाज में शातिर अपराधी को किया गिरफ्तार, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

203

अनिरूद्ध सिंहइलाहाबाद- कई-कई बार अपराधी पुलिस की आंख में धूल झोंककर फरार हो जाते हैं लेकिन फिर पुलिस के शिंकंजे में जल्द ही आ जाते हैं। ऐसा ही कर दिखाया यूपी में एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अनिरूद्ध सिंह ने। अनिरूद्ध सिंह ने बिलकुल फिल्मी अंदाज में शातिर अपराधी को गिरफ्तार किया देखने वाले सभी भोंचक्के रह गए।

नाम बदलकर घूमता था नाटे

-शातिर अपराधी नाटे नाम बदलकर मौलाना करीम के नाम से घूम रहा था।
-मुस्लिम महिलाओं के साथ हलाला के नाम पर यौन शौषण करता था।
-आफताब उर्फ नाटे पर इलाहाबाद पुलिस ने 12 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था।
-उसने लोगों को धोखा तो दिया ही, साथ ही लाखों रुपए भी ऐंठे।
-पूछताछ के दौरान झांसा देकर 39 महिलाओं का हलाला करवाने की बात कबूल की
-मुंबई, सूरत, अजमेर शरीफ और फर्रुखाबाद जैसे शहरों की मस्जिदों और दरगाहों में छिपता फिर रहा था।

महीनों के अंदर बदल लेता था सिम

-नाटे पुलिस से बचने के लिए हर महीने सिम बदल लेता था।
-वह गोपनीय तरीके से फैमिली के सम्पर्क में रहता था।
-वहीं परिवार का कहना था कि उनका नाटे के साथ कोई संबंध नहीं है।
-क्योकिं उन पर तेजाब फेंककर घर से भागा था।

अनिरूद्ध सिंहक्या था पूरा मामला

-नाटे ने बताया कि वह इलाहाबाद के शाहगंज थाना क्षेत्र में रहता था।
-1981 में मोहल्ले के लड़के मोहम्मद अजमत ने मेरी भांजी से छेड़खानी की थी।
-उसकी हरकत ने मेरे अंदर इतना गुस्सा भर दिया कि मैंने बदला लेने की ठान ली।
-मैं अजमत के पास पहुंचा और उसे वहीं गोली से उड़ा दिया।
-पुलिस ने मुझे गिरफ्तार किया और दो साल बाद 1983 में
-मुझे जिला कोर्ट ने ताउम्र कारावास की सजा सुनाई।”
-मैंने सजा के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील दाखिल की
-और दो साल बाद 1985 में मुझे जमानत भी मिल गई।
-जेल से बाहर आते ही मैं शहर से भाग गया।

कौन हैं अनिरूद्ध सिंह

-अनिरुद्ध को आउट आफ टर्न मिला प्रमोशन
-अनिरुद्ध सिंह मूल रूप से जालौन के रहने वाले हैं।
-वह 2001 बैच के इंस्पेक्टर हैं।
-वाराणसी, जौनपुर, चंदौली में अपने कार्यकाल के दौरान वह काफी चर्चित रहे।
-बताया जाता है कि उन्होंने अब तक 26 एनकाउंटर किया है।
-2007 में लाखो रूपए के इनामी नक्सली संजय कोल को मुठभेड़ में मार गिराने के बाद उन्हें प्रमोशन मिला।​

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जानिए आईपीएस अमिताभ यश के बारे में, जिनसे अपराधी खौफ खाते थे

यूपी पुलिस हमेशा से प्रदेशवासियों के निशाने पर