जवानों की दरियादिली, दर्द से कराहती महिला को दिक्कतों के बावजूद पहुंचाया अस्पताल

जवानों की दरियादिली, दर्द से कराहती महिला को दिक्कतों के बावजूद पहुंचाया अस्पताल

66

जवानों

The Police News

छत्तीसगढ़। हमने अक्सर जवानों की बहादुरी के किस्से बहुत सुने होंगे। अक्सर कहा जाता है कि जवानों को ट्रेनिंग के दौरान इंसानी ममता और प्यार को भूलना पड़ता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि उन्हें अपनी ड्यूटी निभाते हुए कभी कभी इन सब बातों और भावो का त्याग करना पड़ता है। लेकिन छत्तीसगढ़ के दन्तेवाड़ा जिले में नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों ने एक महिला की मदद करके इन सब बातों पर विराम लगा दिया है। जवानों ने महिला को स्ट्रेचर पर रखकर 10 किलोमीटर जंगलों के रास्तों से होते हुए अस्पताल पहुंचाया। इस दौरान जवान नदी-नाले पहाड़ को पार करके अस्पताल तक पहुंचे। बता दें कि यह जवान दन्तेवाड़ा में नक्सल मोर्चे पर तैनात थे।

जवानों ने निभाई अपनी ड्यूटी के साथ इंसानियत

  • दन्तेवाड़ा जिले के कटेकल्याण में तैनात 195 की टुकड़ी के जवान नक्सल आपरेशन के तहत नयानार के जंगलो की तरफ बढ़ रहे थे।
  • अपने ऑपरेशन के दौरान उन्हें रास्ते में दर्द से कराहती महिला दिखी जिसे देखकर पहले तो जवानों ने इसे नक्सलियों की चाल समझकर पोजिशन ले लिया। अलर्ट हो कर जैसे-जैसे जवान आगे बढ़े तो स्थिति पूरी तरह साफ हो गई।
  • दर्द से कराहती हुई इस महिला ने अपना नाम कोसी बताया।

  • महिला इतनी ज्यादा गंभीर थी कि वह अपने पैरों पर खड़ी होकर चल भी नही पा रही थी।
  • सीआरपीएफ के असिटेंड कमांडेंट एसआई अमिताभ खण्डेलवाल,देवाराम चौधरी ने अन्य जवानों को महिला की मदद करने के निर्देश दिए।
  • दन्तेवाड़ा के जंगलों में जवानों ने वैकल्पिक एक स्ट्रेचर बनाया। सेना के जवान महिला की मदद करते हुए उसे स्ट्रेक्चर में बैठाकर अस्पताल ले गये।

    पुलिस वालों की खाकी वर्दी की जगह अब नई वर्दी, एनआईडी ने की तैयार

जवानों ने जंगल के रास्ते नदी-नालों को पार करते हुए करीब 10 किलोमीटर का सफर तय किया और दर्द से कराह रही महिला को अस्पताल पहुंचाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रुवेदा सलाम के जोश और जज़्बे की कहानी, कश्मीर की है पहली IPS

The Police News देश की बागडोर असल मायने